बुधवार, जून 19, 2024
होमNewsBoAt Success Story: जानें कैसे BoAt बनी करोड़ों की...

BoAt Success Story: जानें कैसे BoAt बनी करोड़ों की कंपनी, कैसे बना Earphone बेचने वाला व्यक्ति अरबपति

BoAt Case Study Success Story : जैसा कि आपको Heading से ही मालूम हो गया होगा कि आज हम किस विषय पर बात करेंगे. जी हां, आपने सही सोचा. आज हम बात करेंगे BoAt Lifestyles कंपनी व इसके संस्थापकों के सफलता के बारे में.

- Advertisement -

BoAt Gazetts के बारे में किसे नहीं पता. लोग इसके Earphone वगैरह खरीदने ही रहते हैं. यह एक सफल कंपनी है व आज करोड़ों की कंपनी बन चुकी है.

परंतु क्या आप इसके सफलता के पीछे की कहानी जानते हैं? यदि नहीं, तो हमारे साथ जुड़े रहियें.

आज हम आपको बतायेंगे BoAt Lifestyle के सफलता के पीछे की कहानी. जानेंगे कैसे बनी यह करोड़ों की कंपनी.

कैसे हुई कंपनी की शुरुआत

BoAt Lifestyle की शुरूआत 2016 में हुई थी. इसके संस्थापक समीर मेहता और अमन गुप्ता है. इस कंपनी की शुरुआत मात्र 16 लाख रुपये से हुई थी. 5 वर्षों के बाद ही इस कंपनी की कीमत 2100 करोड़ हो गई.

इतने कम समय में इतनी बड़ी सफलता प्राप्त करना कोई साधारण बात नहीं है. आपकी जानकारी के लिए बता दें कि ये कंपनी किन्हीं अनुभवी व्यक्तियों द्वारा नहीं बल्कि अमन गुप्ता व समीर मेहता जैसे व्यापार के कम अनुभव वाले व्यक्तियों द्वारा स्थापित किया गया.

नौकरी के दौरान मिले अनुभव से की कंपनी की शुरुआत

उन दिनों समीर मेहता Core India के Director के रूप में पदभार संभाले हुए थे. वहीं अमन गुप्ता देश के उन चुनिंदा CA में से एक थे, जिन्होंने कम उम्र में CA कर ली थी.

इन्होंने अपने नौकरी के दौरान मिले अनुभव के साथ ही कंपनी की स्थापना की. अपनी नौकरी के दौरान ही अमन ने देखा कि कंपनियां ग्राहकों के जरूरतों के हिसाब से प्रोडेक्ट्स बनाती है

और उसे ग्राहकों के खरीदने लायक दामों पर बेच देती है. यही देखकर BoAt कंपनी की शुरुआत करने की सोची व वर्ष में 2016 BoAt Lifestyle की स्थापना की.

आपको बता दें अमन ने 2011 में ही Kellogg’s School of Management से अपनी MBA की पढ़ाई पूरी की. इसी साल उसने JBL और KPMG जैसे बड़े कंपनियों में काम किया.

क्या थी कंपनी की रणनीति

BoAt कंपनी की रणनीति बिलकुल स्पष्ट थी. सबसे पहले उन्होंने ग्राहकों के जरूरतों को समझा , इन जरूरतों के आधार पर Products को Design किया.

अब इन्हीं Design Products को China से बनवाया. अंत में इन Products को E-commerce Companies के माध्यम से भारत के लोगों तक पहुंचाया.

Audio Market पर था China का दबदबा

उन दिनों Audio Market पर China का दबदबा हुआ करता था. ऐसे में इस स्पर्धापूर्ण मार्केट में उतरना चुनौतियों से भरा था.

इस बात से समीर और अमन पूरी तरह परिचित थे. इसीलिए अपना Product मार्केट में उतारने से पहले उन्होंने बाजार का गहन अध्ययन किया. क्योंकि उन्हें मालूम था कि वे मार्केट में कोई नया Product नहीं ला रहे हैं.

वे ऐसी रणनीति बनाना चाहते थे, जिससे वे मार्केट में टिक सकें. क्योंकि पहले से ही बड़ी-बड़ी कंपनियां ये Products मार्केट में बेच रही थी.

जानिये इनकी सफलता का रहस्य

यूं ही इस कंपनी ने इतना बड़ा मुकाम हासिल नहीं कर लिया, ये अपने कुछ वसुलों को लेकर वचनबद्ध थे. इसी कारण आज मार्केट में ये इतना बड़ा ब्रांड है. आइये, जानें इनके बारे में…

1. Customers के जरूरतों को समझना : कंपनी के संस्थापक को मालूम था कि भारत का मार्केट एक Buyer’s Market है. यानी यहां पर विक्रेताओं की संख्या क्रेताओं से अधिक है. इसी कारण Customers के जरूरतों को समझना जरूरी है. ताकि वे आपके Products खरीदें.

2. Customer First and Improvisation : कंपनी द्वारा Customers को हमेशा भगवान माना. इन्होंने हमेशा Customers के Needs को देखकर अपने Products को तैयार किया ताकि उनकी रूचि बने रहे.

3. चीजों का Micro Observation : कंपनी के संस्थापक ने चीजों का Micro Observation किया. उन्होंने अपने Observation में पाया कि Apple Phone का Charger जल्द ही खराब हो जाता है.

इस कारण उपभोक्ता इसे टेप लगाकर इस्तेमाल करते हैं. इसी को ध्यान में रखकर उन्होंने अपना पहला Product Apple Phone का Charger मार्केट में Launch किया.

4. भविष्य में Smartphone की Needs : कंपनी ने भविष्य में Smartphone के Needs को समझा. उन्हें मालूम था कि भविष्य में Smartphone Accessories की मांग बढ़ेगा. इसीलिए उनके द्वारा Smartphone Accessories के Products तैयार किए गए.

5. Audio Accessories का बिजनेस किया शुरू : कंपनी ने भारत के मार्केट के अध्ययन में यह पाया कि यहां Earphones पर लगभग 30-40 बिलियन का मार्केट है.

वहीं इसकी बिजनेस प्रत्येक साल 20-30 फीसदी की दर से बढ़ रहा. इसी कारण उन्होंने इसी फील्ड में बिजनेस करने की सोची. उन्होंने अपना दूसरा प्रोडक्ट boAt bass head 900 को Launch किया.

6. Right Targeting : कंपनी ने भारत में एक विशेष वर्ग को Target कर Business की शुरुआत की. चूंकि यहां युवाओं की संख्या अधिक है और ज्यादातर Technical Accessories का इस्तेमाल भी यही वर्ग करता है.

इसीलिए उन्होंने युवा वर्ग को Target कर अपने Products बनाये. अपनी इस रणनीति को सफल बनाने हेतु boAt ने युवाओं के पसंदीदा Cricketers और Film Actors को अपने Brand Ambassador के तौर पर चुना.

7. Online Marketing : कंपनी ने अपने Products की Marketing के लिए Online Platform को चुना. इस कारण Online Market में यह अलग ही आकर्षण बन गया.

8. उचित दाम पर Products बेचना : कंपनी ने अपने सारे Products कम मूल्य पर लाये. ताकि ग्राहक कम दाम पर उनके Products खरीद सकें.

परंतु मूल्य के कारण इन्होंने अपने Products के गुणवत्ता को लेकर कोई समझौता नहीं किया. इन्होंने Affordable Price पर Quality Products लोगों को उपलब्ध कराया.

9. अपने Products को As Lifestyle Products के रूप में पेश किया : कंपनी अपने Products को लोगों के Lifestyle के रूप में पेश किया. इनके Products Lifestyle से जुड़े हुए के साथ ही Fashionable थे.

आज BoAt इतनी बड़ी कंपनी बन चुकी है कि ये दिग्गज कंपनियों को टक्कर दे रही हैं. Corona Period व Lockdown Period में इतनी बड़ी कंपनी को Established कर समीर मेहता और अमन गुप्ता ने अपने काबिलियत का परिचय दिया है.

संबंधित खबरें

Rahul
Rahulhttps://nearnews.in
Near News is a Digital Media Website which brings the latest updates from across Bihar University, Muzaffarpur, Bihar and India as a whole.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular

- Advertisment -
WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
होमNewsBoAt Success Story: जानें कैसे BoAt बनी करोड़ों की कंपनी, कैसे बना...

BoAt Success Story: जानें कैसे BoAt बनी करोड़ों की कंपनी, कैसे बना Earphone बेचने वाला व्यक्ति अरबपति

BoAt Case Study Success Story : जैसा कि आपको Heading से ही मालूम हो गया होगा कि आज हम किस विषय पर बात करेंगे. जी हां, आपने सही सोचा. आज हम बात करेंगे BoAt Lifestyles कंपनी व इसके संस्थापकों के सफलता के बारे में.

BoAt Gazetts के बारे में किसे नहीं पता. लोग इसके Earphone वगैरह खरीदने ही रहते हैं. यह एक सफल कंपनी है व आज करोड़ों की कंपनी बन चुकी है.

परंतु क्या आप इसके सफलता के पीछे की कहानी जानते हैं? यदि नहीं, तो हमारे साथ जुड़े रहियें.

आज हम आपको बतायेंगे BoAt Lifestyle के सफलता के पीछे की कहानी. जानेंगे कैसे बनी यह करोड़ों की कंपनी.

कैसे हुई कंपनी की शुरुआत

BoAt Lifestyle की शुरूआत 2016 में हुई थी. इसके संस्थापक समीर मेहता और अमन गुप्ता है. इस कंपनी की शुरुआत मात्र 16 लाख रुपये से हुई थी. 5 वर्षों के बाद ही इस कंपनी की कीमत 2100 करोड़ हो गई.

इतने कम समय में इतनी बड़ी सफलता प्राप्त करना कोई साधारण बात नहीं है. आपकी जानकारी के लिए बता दें कि ये कंपनी किन्हीं अनुभवी व्यक्तियों द्वारा नहीं बल्कि अमन गुप्ता व समीर मेहता जैसे व्यापार के कम अनुभव वाले व्यक्तियों द्वारा स्थापित किया गया.

नौकरी के दौरान मिले अनुभव से की कंपनी की शुरुआत

उन दिनों समीर मेहता Core India के Director के रूप में पदभार संभाले हुए थे. वहीं अमन गुप्ता देश के उन चुनिंदा CA में से एक थे, जिन्होंने कम उम्र में CA कर ली थी.

इन्होंने अपने नौकरी के दौरान मिले अनुभव के साथ ही कंपनी की स्थापना की. अपनी नौकरी के दौरान ही अमन ने देखा कि कंपनियां ग्राहकों के जरूरतों के हिसाब से प्रोडेक्ट्स बनाती है

और उसे ग्राहकों के खरीदने लायक दामों पर बेच देती है. यही देखकर BoAt कंपनी की शुरुआत करने की सोची व वर्ष में 2016 BoAt Lifestyle की स्थापना की.

आपको बता दें अमन ने 2011 में ही Kellogg’s School of Management से अपनी MBA की पढ़ाई पूरी की. इसी साल उसने JBL और KPMG जैसे बड़े कंपनियों में काम किया.

क्या थी कंपनी की रणनीति

BoAt कंपनी की रणनीति बिलकुल स्पष्ट थी. सबसे पहले उन्होंने ग्राहकों के जरूरतों को समझा , इन जरूरतों के आधार पर Products को Design किया.

अब इन्हीं Design Products को China से बनवाया. अंत में इन Products को E-commerce Companies के माध्यम से भारत के लोगों तक पहुंचाया.

Audio Market पर था China का दबदबा

उन दिनों Audio Market पर China का दबदबा हुआ करता था. ऐसे में इस स्पर्धापूर्ण मार्केट में उतरना चुनौतियों से भरा था.

इस बात से समीर और अमन पूरी तरह परिचित थे. इसीलिए अपना Product मार्केट में उतारने से पहले उन्होंने बाजार का गहन अध्ययन किया. क्योंकि उन्हें मालूम था कि वे मार्केट में कोई नया Product नहीं ला रहे हैं.

वे ऐसी रणनीति बनाना चाहते थे, जिससे वे मार्केट में टिक सकें. क्योंकि पहले से ही बड़ी-बड़ी कंपनियां ये Products मार्केट में बेच रही थी.

जानिये इनकी सफलता का रहस्य

यूं ही इस कंपनी ने इतना बड़ा मुकाम हासिल नहीं कर लिया, ये अपने कुछ वसुलों को लेकर वचनबद्ध थे. इसी कारण आज मार्केट में ये इतना बड़ा ब्रांड है. आइये, जानें इनके बारे में…

1. Customers के जरूरतों को समझना : कंपनी के संस्थापक को मालूम था कि भारत का मार्केट एक Buyer’s Market है. यानी यहां पर विक्रेताओं की संख्या क्रेताओं से अधिक है. इसी कारण Customers के जरूरतों को समझना जरूरी है. ताकि वे आपके Products खरीदें.

2. Customer First and Improvisation : कंपनी द्वारा Customers को हमेशा भगवान माना. इन्होंने हमेशा Customers के Needs को देखकर अपने Products को तैयार किया ताकि उनकी रूचि बने रहे.

3. चीजों का Micro Observation : कंपनी के संस्थापक ने चीजों का Micro Observation किया. उन्होंने अपने Observation में पाया कि Apple Phone का Charger जल्द ही खराब हो जाता है.

इस कारण उपभोक्ता इसे टेप लगाकर इस्तेमाल करते हैं. इसी को ध्यान में रखकर उन्होंने अपना पहला Product Apple Phone का Charger मार्केट में Launch किया.

4. भविष्य में Smartphone की Needs : कंपनी ने भविष्य में Smartphone के Needs को समझा. उन्हें मालूम था कि भविष्य में Smartphone Accessories की मांग बढ़ेगा. इसीलिए उनके द्वारा Smartphone Accessories के Products तैयार किए गए.

5. Audio Accessories का बिजनेस किया शुरू : कंपनी ने भारत के मार्केट के अध्ययन में यह पाया कि यहां Earphones पर लगभग 30-40 बिलियन का मार्केट है.

वहीं इसकी बिजनेस प्रत्येक साल 20-30 फीसदी की दर से बढ़ रहा. इसी कारण उन्होंने इसी फील्ड में बिजनेस करने की सोची. उन्होंने अपना दूसरा प्रोडक्ट boAt bass head 900 को Launch किया.

6. Right Targeting : कंपनी ने भारत में एक विशेष वर्ग को Target कर Business की शुरुआत की. चूंकि यहां युवाओं की संख्या अधिक है और ज्यादातर Technical Accessories का इस्तेमाल भी यही वर्ग करता है.

इसीलिए उन्होंने युवा वर्ग को Target कर अपने Products बनाये. अपनी इस रणनीति को सफल बनाने हेतु boAt ने युवाओं के पसंदीदा Cricketers और Film Actors को अपने Brand Ambassador के तौर पर चुना.

7. Online Marketing : कंपनी ने अपने Products की Marketing के लिए Online Platform को चुना. इस कारण Online Market में यह अलग ही आकर्षण बन गया.

8. उचित दाम पर Products बेचना : कंपनी ने अपने सारे Products कम मूल्य पर लाये. ताकि ग्राहक कम दाम पर उनके Products खरीद सकें.

परंतु मूल्य के कारण इन्होंने अपने Products के गुणवत्ता को लेकर कोई समझौता नहीं किया. इन्होंने Affordable Price पर Quality Products लोगों को उपलब्ध कराया.

9. अपने Products को As Lifestyle Products के रूप में पेश किया : कंपनी अपने Products को लोगों के Lifestyle के रूप में पेश किया. इनके Products Lifestyle से जुड़े हुए के साथ ही Fashionable थे.

आज BoAt इतनी बड़ी कंपनी बन चुकी है कि ये दिग्गज कंपनियों को टक्कर दे रही हैं. Corona Period व Lockdown Period में इतनी बड़ी कंपनी को Established कर समीर मेहता और अमन गुप्ता ने अपने काबिलियत का परिचय दिया है.

RELATED ARTICLES
Rahul
Rahulhttps://nearnews.in
Near News is a Digital Media Website which brings the latest updates from across Bihar University, Muzaffarpur, Bihar and India as a whole.
Html code here! Replace this with any non empty raw html code and that's it.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular

- Advertisment -