Monday, September 26, 2022

How to whiten your Teeth: डेंटिस्ट को कतई न दें 2000 रुपये! बस 7 दिन चबाएं ये हरा पत्ता, पीले दांत होंगे सफेद

Basil for Teeth Whitening : दांतों का पीलापन या मुंह से बदबू आना एक गंभीर समस्याओं में से एक हैं. इसकी वजह से कई बार शर्मिंदगी का सामना करना पड़ सकता हैं.

खाने-पीने की गलत आदतों की वजह से आपके सफेद दांत धीरे धीरे पीले हो जाते हैं. अगर आपने ध्यान नहीं दिया तो आपको दांत-मसूड़ों की गंभीर समस्याओं का भी सामना करना पड़ सकता हैं.

________________________
बिहार की सभी लेटेस्ट रोजगार समाचार और स्कॉलरशिप से अपडेटेड रहने के लिए इस ग्रुप में अभी जुड़े. (अगर आप टेलिग्राम नहीं चलाते हैं तो फेसबुक को फॉलो करें, ताकि बिहार की कोई नौकरी नोटिफिकेशन न छूटे)

Whatsapp GroupJoin Now
Join FacebookJoin & Follow
Telegram GroupJoin Now
Google FollowClick On Star

वैसे तो पीले या फिर काले पड़ चुके दांतों को नैचुरल तरीके से सफेद करने के तरीके तो कई हैं लेकिन आपको सिगरेट, बहुत अधिक कॉफी या सोडा और तंबाकू चबाने जैसी गंदी आदतों से बचना चाहिए.

इसके अलावें जंक फूड का भी सेवन कम से करना चाहिए. इसके बजाय अपने खाने में सेब, स्ट्रॉबेरी, गाजर और अजवाइन और फल-सब्जियां शामिल करें.

अगर आप यह काम भी नहीं कर पा रहे हैं, तो आपको आज से ही से तुलसी के हरे पत्ते को चबाना शुरू कर देने चाहिए. तुलसी के पत्ते आपके पीले दांत को बिना किसी नुकसान पहुंचाए ही सफेद और मजबूत बना सकते हैं.

सिर्फ इतना ही नहीं, इसके हरे पत्तों का पाउडर या फिर पेस्ट भी आपको मुंह की दुर्गंध (Mouth Odour) व अन्य मसूड़ों की बीमारियों से बचा सकता हैं.

दांत दर्द के लिए तुलसी के पत्ते

तुलसी में भारी मात्रा में यूजेनॉल (1-Hydroxy-2-Methoxy-4 Allylbenzene) होता है. यही वजह है कि यह शरीर में सूजन पैदा करने वाले तत्वों को रोकने का काम करता हैं.

तुलसी के पत्तों में लगभग 71% Eugenol और 20% Methyl Eugenol होता हैं. अगर आप दांत के दर्द से परेशान हैं, तो आपको इसके पत्तों को आवश्यक रूप में चबाना चाहिए.

ओरल इन्फेक्शन से बचाने में सहायक

मुंह में संक्रमण के इलाज में तुलसी के पत्ते काफी प्रभावशाली होते हैं। शोधकर्ताओं का मानना है कि तुलसी के पत्ते चबाने से Oral Hygiene को बढ़ावा मिलता है. इस पौधे में कार्वाक्रोल और टेरपीन जैसे Antibacterial गुण होते हैं.

पीरियडोंटल रोगों में तुलसी की भूमिका

तुलसी के पत्तों को धूप में सूखाकर इसका पाउडर दांतों को ब्रश करने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है. इसे सरसों के तेल में मिलाकर पेस्ट भी बनाई जा सकती है

और टूथपेस्ट के रूप में भी इस्तेमाल किया जा सकता है. बताते चले कि तुलसी मुंह से दुर्गंध को रोकने में भी काफी कारगर साबित हुई है.

इसका Anti-Inflammatory गुण मसूड़े की सूजन और पीरियोडोंटाइटिस के लिए बेहतर बनाते हैं. इसका उपयोग इन स्थितियों में मसूड़े की मालिश के लिए की जा सकती हैं.

पीले दांतों को करता है सफेद

आप तुलसी के पत्तों का स्तेमाल करके दांतों को Natural रूप से सफेद बना सकते हैं. तुलसी के कुछ पवित्र पत्तों को धूप में सूखने के लिए छोड़ दें.

सूखे पत्तों को पीसकर पाउडर बना लीजिये और पाउडर को अपने टूथपेस्ट में मिलाएं, अपने दांतों को दिन में दो से तीन बार ब्रश करें. तुलसी के Natural Bleaching गुण सात दिनों में आपके दांतों को सफेद कर देंगे.

Related Articles

Stay Connected

34,988FansLike
2,522FollowersFollow
1,121SubscribersSubscribe

Business

NAUKRI

ASTROLOGY

error: Copyright © 2022 All Rights Reserved.