Sunday, January 29, 2023

जानिए कब है धनतेरस और क्या है इसका महत्व, कैसे करें धनवंतरि और कुबेर की पूजा…

धर्म : प्रत्येक साल कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष के त्रयोदशी को हर साल धनतेरस का त्योहार मनाई जाती है, जो की छोटी दिवाली से एक दिन पहले आता है.

इसी दिन भगवान धनवंतरि की पूजा किया जाता है और यह बेहद ही शुभ दिन माना जाता है.

सोना, चांदी के आभूषण एवं बर्तन आदि चीजों को खरीदना बहुत ही शुभ माना जाता है. इस साल धनतेरस 13 November यानी शुक्रवार को हैं.

इस साल धनतेरस 13 November को है और पूजा के लिए शाम का समय बहुत ही उपयुक्त माना गया है.

शाम 5 बजकर 28 मिनट से लेकर 5 बजकर 59 मिनट के बीच पूजा करने का शुभ मुहूर्त है.

इस 30 मिनट के समय को धनतेरस की पूजा के लिए काफी शुभदायी समय माना गया है. भगवान धनवंतरि की पूजा इस समयावधि के दौरान किया जा सकता है.

धनवंतरि और कुबेर की पूजा…

भगवान धनवंतरि को भगवान विष्णु का रूप माना जाता हैं जो हाथ में अमृत कलश धारण किये हैं.

यह भी पढ़े :  Sarkari Naukri 2023 : नर्सिंग ऑफिसर के 7400 पदों पर निकली वैकेंसी, 12वीं के साथ है ये सर्टिफिकेट तो करें आवेदन, 92300 रुपये सैलरी

इन्हें पीतल पसंद हैं इसलिए धनतेरस के दिन पीतल या किसी अन्य किसी धातु के सामान को खरीदा जाता हैं.

आरोग्य के देवता धनवंतरि और धन के देवता कुबेर की पूजा धनतेरस के दिन किया जाता है.

धनतेरस का महत्व…

धर्म ग्रंथों से पता चलता हैं कि कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी के दिन समुद्र मंथन के दौरान भगवान धनवंतरि अपने हाथों में अमृत की कलश लेकर प्रकट हुए थे.

साथ मे यह भी मान्यता है कि चिकित्सा विज्ञान के प्रसार करने के लिए भगवान धनवंतरि ने अवतार लिया था.

बता दें कि धनवंतरि को भारत सरकार का आयुष मंत्रालय राष्ट्रीय आयुर्वेद दिवस के रूप में भी मनाता है.

पौराणिक मान्यताओं के अनुसार धनतेरस के दिन लक्ष्मी पूजन करने से धन-धान्य की कभी कमी नहीं होती और लक्ष्मी-गणेश की प्रतिमा भी इस दिन घर में लाना चाहिए.

धनतेरस के दिन संध्या समय मे दीपक जलाने की भी प्रथा हैं. इसे यम दीपक कहा जाता हैं

यह भी पढ़े :  BSEB Board Exam 2023 : कक्षा 10वीं हिंदी विषय में आनें वाले महत्वपूर्ण वस्तुनिष्ठ प्रश्न और उनके उत्तर, यहां देखें

की यह दीपक यमराज के लिए जलाया जाता हैं जिससे अकाल मृत्यु को टाला जा सकें.

Related Articles

Stay Connected

52,251FansLike
3,026FollowersFollow
2,201SubscribersSubscribe

Business

NAUKRI

ASTROLOGY

error: Copyright © 2022 All Rights Reserved.