Tuesday, May 18, 2021

बच्चे का आधार कार्ड बनवाने में न करें देरी, बच्चों का Aadhar Card बनवाने में इन डॉक्यूमेंट्स की पड़ती है जरुरत

Aadhar Card आज के दौर में हर किसी के लिए जरूरी बन गया है. बच्चों का भी Aadhar Card जरूर बनवाना चाहिए.

अगर आपके बच्चे का Aadhar Card नहीं बना है तो कई कामों में रुकावट आ सकता है.

आज हम आपको बता रहे हैं कि बच्चों को Aadhar Card बनाने के क्या फायदे हैं और इसके लिए कौन से Documents की जरुरत है.

बच्चों का Aadhar Card बनवाने के फायदे

◾ Aadhar Card बच्चे की पहचान पत्र के तौर पर काम करेगा. क्योंकि बच्चों का न Driving License बनता है और न ही मतदाता पहचान पत्र.

◾ ऐसे में Aadhar Card ही उनका पहचान पत्र होता है. Sarkari संस्थानों में तो यह काम आएगा ही, निजी संस्थानों में भी यह काम आता हैं.

◾ School में भी अब Admission के टाइम पर Aadhar Number मांगा जा रहा है.

◾ जिन Children का Aadhar Card नहीं हैं उन्हें School एक तय समय मे Aadhar Card बनवाने का निर्देश दे रहे है.

◾ Sarkari कार्यक्रमों, Scholarship हासिल करने तक में Aadhar Card बच्चे के बहुत काम आता हैं. बच्चों के Saving Account के लिए भी Aadhar Card जरूरी है.

◾ बच्चों के लिए Aadhar Card के साथ Passport भी सरकार द्वारा जारी Identity Proof के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है, मगर देश में Passport रखने वाले लोगों की संख्या बहुत ही कम हैं.

आइये जानते हैं इसे बनवाने के कौन से Document चाहिए

5 साल से कम उम्र के बच्चों के लिए

◾ ऐसा Document जो बच्चे के साथ माता-पिता या अभिभावक का संबंध को दर्शाता हो जैसे- बच्चे का Birth Certificate या Hospital द्वारा जारी डिस्चार्ज कार्ड/पर्ची

◾ माता या पिता में से किसी एक/अभिभावक का Aadhar Card

◾ जब भी बच्चे का Aadhar Card बनवाने जाएं तो इन दोनों Documents की Original Copy भी साथ लेकर जाएं.

5 से 15 साल के बीच के बच्चों के लिए Documents

◾ बच्चे के नाम पर अगर कोई Document नहीं है तो मां-बाप के साथ उसका संबंध दर्शाने वाला दस्तावेज जैसे Birth Certificate

◾ अगर बच्चे के नाम पर कोई Document है तो School ID जैसे कोई वैलिड आईडी व Address Proof देना होगा.

◾ मां-बाप में से किसी एक का Aadhar Card.

Valid Documents की लिस्ट यहां मौजूद है.

इन बातों का रखें ध्यान

◾ 5 साल से कम उम्र के बच्चों के Biometric Details नहीं लिया जाता हैं, केवल Photo ली जाती है.

5 साल से कम उम्र के बच्चों के Biometric यानी अंगुलियों के निशान और आंखों के पुतली विकसित नहीं होते हैं.

◾ बच्चे जब पांच साल का हो जाता है तो उसकी Biometric Details ली जाती हैं.

◾ बच्चे के बड़े होने पर उसके Biometric में बदलाव आता है. बच्चे के 15 साल का होने पर ये Details Update कराना जरूरी है.

बता दें कि बच्चों की Biometric का अपडेशन बिल्कुल फ्री है

Biometric Updation के लिए कोई Document नहीं चाहिए. केवल बच्चे को उसके Aadhar Card के साथ Aadhar Center ले जाएं.

12925a9378c0ce72ce930f3778bec96c?s=96&d=blank&r=g
Near Newshttp://nearnews.in
Near News is a Digital Media Website which brings the latest updates from across Bihar University, Muzaffarpur, Bihar and India as a whole.

Related Articles

Stay Connected

34,988FansLike
500FollowersFollow
1,000SubscribersSubscribe

Latest Articles

- Advertisement -
error: Copyright © 2021 All Rights Reserved.