Wednesday, July 28, 2021

चमत्कार: मां की ममता ने मृत बेटे को कर दिया जिंदा, शव चूमते ही लाल की चलने लगी सांस

यह चमत्कार नहीं तो और क्या है? भगवान ने एक मां की करुणामयी पुकार सुन ली, उसके छह साल के बेटे को डॉक्टरों ने 20 दिन पहले मृत घोषित कर दिया था,

परिजन अंतिम संस्कार की तैयारी में लगे थे, अपने बेटे के सिर पर चुंबन करते हुई माँ बार-बार कह रही थी- उठो, मेरे बच्चे, उठो, फिर उसका शरीर हिलने लगा, फिर से लड़के का इलाज शुरू हुआ और मंगलवार को वह रोहतक अस्पताल से हंस-हंस कर खेलता हुआ अपने घर को लौट आया.

दिल्ली में टाइफाइड का चल रहा था इलाज

यह मामला हरियाणा के बहादुरगढ़ का हैं, यहां रहने वाले हितेश और उनकी पत्नी जाह्नवी ने बताया कि, उनके बेटे को टाइफाइड हो गया था,

उसे इलाज के लिए दिल्ली ले जाया गया था, 26 मई को डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया था, वे शव को लेकर बहादुरगढ़ लौट आया.

शव को अंतिम संस्कार के लिए रखने के लिए बर्फ और नमक मंगवाने के लिए ऑर्डर दिया गया था बच्चे के दादा विजय शर्मा ने यह बताया कि शव को रात भर रखने के लिए बर्फ और सुबह दफनाने के लिए नमक का इंतजाम किया, स्थानीय लोगों को सुबह में श्मशान घाट पहुंचने के लिए कहा था.

जब पिता ने मुंह से सांस ली तो बेटे ने अपने होठों पर दांत चुबा दिए

जब पिता ने मुंह से सांस ली तब बेटे ने अपने होठों पर दांत चुबा दिए
बच्चे की मां जाह्नवी और ताई अन्नू रोते बिलखते रो रहे थे, बार बार अपने मासूम को प्यार से झकझोर रहे थे और जिंदा रहने के लिए कह रही थी,

कुछ देर बाद बच्चे के शरीर में हलचल महसूस हुई जिसके बाद बच्चे के पिता हितेश ने चादर की पैकिंग से बच्चे का मुंह निकाला और मुंह में सांस देने लगें,

पड़ोसी सुनील ने बच्चे के सीने को दबाना शुरू कर दिया, जैसा कि उन्होंने फिल्मों में देखा था, इसी बीच बच्चे ने अपने दांत से अपने पिता के होंठों पर बाईट किया.

Sarkari Naukri, एडमिट कार्ड, परीक्षा और रिजल्ट से संबंधित समाचार अब इस टेलीग्राम ग्रुप में डाला जाएगा, इसे अभी जॉइन करें
Telegram Group : Join Now

बचे हुए चावल से ऐसे बनाये सोया पुलाओ : Click Here

सांस लेने के बाद भी बचने की 15% संभावना थी

इसके बाद 26 मई की रात को बच्चे को रोहतक के एक निजी अस्पताल में ले जाया गया, वहां डॉक्टरों ने कहा कि उसके बचने की संभावना सिर्फ 15 फीसदी है, फिर इलाज शुरू हुआ, और बच्चे की रिकवरी तेजी से हुई और अब बच्चा पूरी तरह से ठीक होकर मंगलवार को घर पहुंच गया हैं.

अब गांव में खुशी का माहौल

अब बच्चे के पिता हितेश अपने बेटे के द्वारा कटे बाईट को होंठ पर दिखाकर जश्न मना रहे हैं, वहीं दादा विजय इसे एक चमत्कार बता रहे हैं,

मां ने यह कहा कि भगवान ने फिर से उनके बेटे में सांस दी है, परिवार ही नहीं पूरे के पूरे गांव में खुशी का माहौल हैं.

Related Articles

Stay Connected

34,988FansLike
2,522FollowersFollow
1,121SubscribersSubscribe

Latest Article

RECIPE

NAUKRI NOTIFICATION

ASTROLOGY

- Advertisement -
error: Copyright © 2021 All Rights Reserved.