Monday, September 26, 2022

Success Story : फोटो कॉपी की दुकान से 1000 करोड़ की कंपनी तक का सफर, अद्भुत है विशाल मेगा मार्ट की यह कहानी

Success Story of Ram Chandra Aggarwal : धैर्य और दृढ़ संकल्प सफलता पाने के लिए सबसे ज्यादा जरूरी है. आज हम एक ऐसे दिव्यांग व्यक्ति के बारे में जानेंगे,

जिसने शून्य से शुरुआत कर आज एक विशाल साम्राज्य का निर्माण किया हैं. जब बात मार्केटिंग की आती हैं तब कम दाम में अच्छे सामान की

प्राप्ति के लिए लोग मॉल का रुख करते हैं. पूरे भारत में विशाल मेगा मार्ट एक विशाल साम्राज्य की स्थापना कर चुका हैं

________________________
बिहार की सभी लेटेस्ट रोजगार समाचार और स्कॉलरशिप से अपडेटेड रहने के लिए इस ग्रुप में अभी जुड़े. (अगर आप टेलिग्राम नहीं चलाते हैं तो फेसबुक को फॉलो करें, ताकि बिहार की कोई नौकरी नोटिफिकेशन न छूटे)

Whatsapp GroupJoin Now
Join FacebookJoin & Follow
Telegram GroupJoin Now
Google FollowClick On Star

लेकिन Vishal Mega Mart की सफलता के पीछे कई उतार-चढ़ाव भरे किस्से हैं. रामचंद्र अग्रवाल द्वारा स्थापित की गई Vishal Mega Mart की शुरुआत आसान नहीं था.

गरीबी में जन्मे रामचंद्र अग्रवाल अपनी जीवन चलाने के लिए एक फोटो कॉपी की दुकान शुरुआत की थी.

पोलियो के हो गए थे शिकार

रामचंद्र अग्रवाल बचपन में ही पोलियो से ग्रसित हो गए थे. उन्होंने बचपन में ही चलने की क्षमता लगभग खत्म हो गई थी फिर भी उन्होंने

किसी प्रकार से ग्रेजुएशन तक की अपनी पढ़ाई पूरी की. वर्ष 1986 में उन्होंने कुछ कर्ज लेकर एक फोटोकॉपी की दुकान खोली.

कोलकाता में शुरू किया व्यापार

वर्ष 1998 में उन्होंने अपना कारोबार शुरू करने का फैसला किया और कोलकाता के लाल बाजार के पास एक कपड़े की दुकान खोली.

15 वर्ष तक कपड़े की दुकान चलाने के बाद उन्होंने इस दुकान को बंद कर दी और बड़े स्तर पर एक खुदरा व्यापार शुरू करने की उन्होंने योजना बनाई.

विशाल रिटेल के नाम से की शुरुआत

रामचंद्र अग्रवाल वर्ष 2001 में कोलकाता से दिल्ली शिफ्ट हुए थे. दिल्ली में उन्होंने Vishal Retail के नाम से एक खुदरा व्यापार की शुरुआत की

और वर्ष 2002 में दिल्ली में Vishal Mega Mart के रूप में पहली हाइपरमार्केट बनाई.

कारोबार पहुंचा शहरों तक

रामचंद्र अग्रवाल का यह कारोबार कई अन्य शहरों तक पहुंच गया. वर्ष 2007 में Vishal Mega Mart ने दो हजार करोड़ का प्रारंभिक सार्वजनिक प्रस्ताव निकाला.

कंपनी का हो गया था दिवालिया

वर्ष 2008 में Share में हुई गिरावट के कारण कंपनी को 750 करोड़ का नुकसान हो गया. उनकी आर्थिक स्थिति इतनी खराब हो गई कि उन्हें

उधार चुकाने के लिए Vishal Retail बेचना पड़ा. वर्ष 2011 में श्री राम ग्रुप के हाथों उन्होंने Vishal Retail का सौदा किया. इस असफलता के बाद

भी उन्होंने बिल्कुल भी हार नहीं मानी और v2retail के नाम से एक बार फिर खुदरा व्यापार की शुरुआत कर दी.

दो बार मिली असफलता

v2 Retail Limited आज भारत का सबसे तेजी से बढ़ने वाला खुदरा कंपनी है. v2 Retail Limited ने भारत के 32 शहरों में अपना

आउटलेट खोल रखा है. इस आउटलेट पर किफायती दामों पर नवीनतम फैशन सामग्री उपलब्ध कराए जाते हैं.

साम्राज्य की हुई शुरूआत

रामचंद्र के लिए यह सफर काफी चुनौतियों से भरा था. शारीरिक कमजोरी होने के बाद भी उन्होंने दो बार शून्य से अपने विशाल साम्राज्य की शुरुआत किये.

Related Articles

Stay Connected

34,988FansLike
2,522FollowersFollow
1,121SubscribersSubscribe

Business

NAUKRI

ASTROLOGY

error: Copyright © 2022 All Rights Reserved.