Friday, June 2, 2023

Diwali 2022 : आज है दीपावली, जानिए- पूजा के लिए शुभ मुहूर्त, पूजन विधि और इस दिन क्यों की जाती है लक्ष्मी-गणेश की पूजा…

SHARE

Diwali 2022 Date, Time in India : रोशन का त्योहार दिवाली (Diwali 2022) इस साल आज यानि

24 October, 2022 को मनाया जा रहा है. COVID-19 काल के बाद करीब 2 सालों बाद इस Diwali 2022 को

________________________
लेटेस्ट सरकारी जॉब, फायदेमंद योजनायें और स्कॉलरशिप की जानकारी से अपडेटेड रहने के लिए नीचे बताये निर्देशों को फॉलो करें :-

Join Whatsapp GroupJoin Now
Official FacebookJoin & Follow
Follow on GoogleClick On Star

मनाने का खासा उत्साह देखा जा रहा है. लोग अपने घरों की Decoration में कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं।

कृष्ण पक्ष की अमावस्या तिथि पर मनाई जाती है दिवाली:

हिंदू पंचांग (Hindu Panchang) के अनुसार दीपावली (Diwali 2022) प्रत्येक वर्ष कार्तिक माह के कृष्ण पक्ष

की अमावस्या तिथि पर मनाई जाती है. दिवाली (Diwali 2022) पर मां लक्ष्मी की पूजा पूरे विधि विधान के साथ

करना चाहिए क्योंकि धन की देवी का वास वहीं होता है जहां प्रकाश और स्वच्छता पर जोर दिया हो.

दिवाली 2022 प्रदोष काल मुहूर्त (Diwali 2022 Evening Puja Muhurat):

बता दें की आज यानि 24 October, 2022 को रात 07:02 PM से रात 08:23 PM मिनट तक प्रदोष काल

यानी की संध्या के समय मां लक्ष्मी की पूजा का उत्तम समय है। (Diwali 2022 Evening Puja Muhurat).

प्रदोष काल : शाम 05:50 PM – रात 08:23 PM

वृषभ काल : रात 07:02 PM – रात 08:58 PM

दिवाली 2022 रात्रि मुहूर्त (Diwali 2022 Night Puja Muhurat):

बताते चलें की दीपावली (Diwali 2022) पर चौघड़िया देखकर भी मां लक्ष्मी का पूजन (Worship of Maa

Lakshmi) किया जाता है. ऐसे में लाभ का मुहूर्त बहुत शुभ माना गया है. आज यानि 24 October, 2022 को

दिवाली की रात 10:36 PM से प्रात: 12:11 AM पर लाभ का मुहूर्त रहेगा।

दिवाली पर दीये जलाने का महत्व:

पौराणिक कथा (Pauranik Katha) के अनुसार त्रेतायुग में जब भगवान राम माता सीता और लक्ष्मण सहित 14 वर्षों

का वनवास पूरा करके लौटे थे. उस दिन कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की अमावस्या तिथि थी. अयोध्या वासियों ने

यह भी पढ़े :  NVS Teacher Recruitment 2023 : नवोदय विद्यालय में निकली बंपर भर्ती, इंटरव्यू के आधार पर होगा चयन, आवेदन शुरू…

उनके आने की खुशी में उनके रास्ते में पक्तियों में दीप जलाए थे. दिपावली (Diwali 2022) में आवली का अर्थ

होता है पंक्ति दिपावली दीप और आवली शब्द से मिलकर बना है. उसी दिन से इस परंपरा का आगाज हुआ था।

दिवाली पर लक्ष्मी पूजन के शुभ मुहूर्त का महत्व:

आपको बता दें की दिवाली (Diwali 2022) पर मां लक्ष्मी का विशेष पूजा (Special Puja) करने का विधान होता

है. दिवाली में मां लक्ष्मी (Maa Lakshmi) के साथ भगवान गणेश (Lord Ganesha), भगवान कुबेर

(Lord Kuber) और माता सरस्वती (Mata Saraswati) की पूजा की जाती है।

शास्त्रों के अनुसार लक्ष्मी पूजन (Lakshmi Puja) प्रदोष काल में किया जाना सबसे शुभ माना

गया है. प्रदोष काल का मतलब सूर्यास्त के बाद के तीन Muhurat से होता है। इसके अलावा प्रदोष काल के

दौरान स्थिर लग्न में लक्ष्मी पूजन (Lakshmi Puja) करना सर्वोत्तम माना गया है. माना जाता है कि स्थिर लग्न

में की गई पूजा-आराधना में Maa Lakshmi वहां पर अवश्य अपने कुछ अंश के रूप में निवास करने लगती हैं।

इसके अलावा महानिशीथ काल में भी लक्ष्मी पूजन (Lakshmi Puja) का विशेष महत्व होता है।

दिवाली 2022 पूजा सामग्री (Diwali Lakshmi Puja Samagri):

◆ रोली, कुमकुम, चंदन, अष्टगंध, अक्षत, लक्ष्मी-गणेश की मूर्ती या फोटो

◆ पूजा की चौकी, लाल कपड़ा, पान, सुपारी, पंचामृत, हल्दी, रूई की बत्ती, लाल धागे की बत्ती

◆ नारियल, गंगाजल, फल, फूल, कमल गट्‌टा, कलश, आम के पत्ते, मौली

◆ जनेऊ, दूर्वा, कपूर, दक्षिणा, धूप, दो बड़े दीपक, गेंहूं, खील, बताशे, स्याही, दवात

दीपावली की पूजा विधि (Diwali 2022 Lakshmi Puja Vidhi):

◆ पूजा स्थल पर चौकी स्थापित करें और उस पर लाल कपड़ा बिछाएं।

◆ चौकी पर माँ लक्ष्मी, देवी सरस्वती और भगवान गणेश की मूर्ति स्थापित करें।

◆ दीपक प्रज्जवलित करें व रात भर दीपक जलाकर रखें।

◆ गणेश जी की मूर्ति पर रोली व अक्षत का तिलक करें।

◆ गणेश जी के बाद लक्ष्मी पूजन करें।

◆ भगवान को गंध, फूल, धूप और मिठाई अर्पित करें।

◆ अंत में देवी लक्ष्मी की आरती करें।

Related Articles

Stay Connected

52,251FansLike
3,026FollowersFollow
27,905SubscribersSubscribe

Business

NAUKRI

ASTROLOGY

error: Copyright © 2022 All Rights Reserved.