Friday, June 25, 2021

मास्क से ‘ब्लैक फंगस’ का खतरा? जानें क्या कहते हैं एक्सपर्ट

Masks and Black Fungus Infection: कोरोना वायरस संक्रमण के बाद अब देश के लिए Mucomycosis या ब्लैक फंगस काफी चिंता का विषय बनता जा रहा हैं. ब्लैक फंगस (Black fungus) कोरोना संक्रमण से पीड़ित या फिर

ठीक होने वाले लोगों के आंख, नाक, साइनस और कुछ मामलों में तो मस्तिष्क को भी नुकसान पहुंचा रहा हैं. ब्लैक फंगस (Black fungus) को लेकर लोगों के बीच जागरुकता कम है.

इस बीमारी के बारे में ज्यादा जानने के लिए ABP News ने डॉ. मंजरी त्रिपाठी Neurologist, AIIMS, Delhi से बात की.

ABP News को डॉ. मंजरी त्रिपाठी ने बताया कि फंगस (Fungus) हमारे वातावरण में मौजूद रहते हैं. जब हम स्वस्थ होते हैं तो यह फंगस हमें कोई हानि नहीं पहुंचाते

लेकिन जब हम किसी अन्य ऐसी बीमारी से पीड़ित हो जाते हैं जो कि हमारी इम्यूनिटी को कमजोर कर देती हैं तब यह फंगस हम पर अटैक करते हैं.

कोरोना भी इम्यूनिटी को कमजोर करता हैं. इसके साथ ही अगर किसी मरीज को शुगर हैं और उसने डॉक्टर से सलाह किये बिना स्टेरॉयड ली हैं तो यह फंगस ऐसे मरीजों पर अटैक कर सकता हैं.

डॉ. त्रिपाठी ने कहा कि ब्लैक फंगस (Black fungus) से बचने के लिए अलर्ट रहना बहुत ही जरूरी है.

नाक के आसपास सूजन आने से या फिर लाल रंग होना अथवा आंखों में सूजन आ जाना या हमारे नाक के अंदर पपड़ी होने पर तुरंत डॉक्टर को दिखाना चाहिए.

यह भी पढ़े :  भारत में वापसी के लिए तैयार TikTok, बैन के बावजूद मान रहा यह नए Digital नियम

हवा-मिट्टी में रहता है ब्लैक फंगस, देशभर के डॉक्टर्स ने दी यह गाइडलाइन- कैसे करें पहचान, जाने बचाव और इलाज

मास्क और ब्लैक फंगस Masks and ‘Black Fungus’

डॉ. त्रिपाठी ने कहा कि यह बीमारी न हो इसके लिए साफ सफाई का काफी ध्यान रखा जाता है, जब हम मास्क पहनते है तो उसमे पसीना आता है,

जिससे हमारा मास्क गीला हो जाता हैं. इस गीलेपन की वजह से मास्क में फंगस पनपनता हैं. इसलिए यह बहुत जरूरी हैं कि आप अपने मास्क को बिल्कुल साफ रखें,

आप अपने पास कई मास्क रखें. सातों दिनों के लिए अलग-अलग सात मास्क रखें. मास्क इस्तेमाल करने के उपरांत उसे धो दें और धूप में अच्छे से सुखा लें.

इसके साथ ही अपने मुंह पर गंदगी बिल्कुल न होने दें. मुंह धोना, ब्रश करना भी काफी जरूरी है. बिना डॉक्टर से सलाह किये कोई भी दवाई नहीं लेना है.

यह भी पढ़े :  फिश एंड फिशरीज कोर्स में एडमिशन के लिए आवेदन शुरू, प्रवेश परीक्षा 24 जुलाई को, जाने सबकुछ

वहीं AIIMS के डॉ पी शरत चंद्र ने कहा कि 2-3 सप्ताह तक एक ही मास्क का उपयोग करना भी ब्लैक फंगस (Black fungus) के विकास के लिए व्यवस्था बना सकता हैं.

उन्होंने कहा कि ब्लैक फंगस (Black fungus) की घटनाओं को कम करने के लिए उच्च जोखिम वाले व्यक्तियों को एंटी-फंगल दवा (Anti-fungal medicine) Posaconazole दिया जा सकता है.

Related Articles

Stay Connected

34,988FansLike
2,522FollowersFollow
1,121SubscribersSubscribe

Latest Article

RECIPE

NAUKRI NOTIFICATION

ASTROLOGY

- Advertisement -
error: Copyright © 2021 All Rights Reserved.